Indian Railway main logo Welcome to Indian Railways RDSO Logo
  
View Content in English
National Emblem of India

हमारे बारे में

निदेशालय

निविदाएं

प्रदायक इंटरफ़ेस

समाचार एवं घटनाक्रम

कर्मचारी कल्याण

हमसे संपर्क करें



Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS

आई॰आई॰टी॰ खड़गपुर में रेल अनुसंधान के लिए केंद्र

 

 

 

 

 

भारतीय रेलवे विजन 2020 का लक्ष्य भारतीय रेलवे को शुद्ध प्रौद्योगिकी आयातक से प्रौद्योगिकी निर्यातक मे बदलना है। इस विकास की लंबी अवधि के क्रम मे अनुसंधान कार्य मे सहयोग के लिए आई॰आई॰टी॰ खड़गपुर के साथ रेलवे बोर्ड द्वारा एक समझौता प्रपत्र पर दिनांक-13/2/2010 को आई॰आई॰टी॰ खड़गपुर में रेलवे रिसर्च सेंटर (सी॰आर॰आर॰) की स्थापना के लिए पर हस्ताक्षर किए गए हैं ।

 

उपरोक्त अनुसंधान केंद्र मे अनुसंधान के निम्न क्षेत्रों मे अनुसंधान किया जाएगा -

 

हैवी हौल प्रौद्योगिकी

वाहन गतिकीय

हाई स्पीड टेक्नोलॉजीज

ऊर्जा कुशल ट्रैक्शन बिजली का आपूर्ति सिस्टम

ट्रैक अनुसंधान

रखरखाव और प्रबंधन के पूर्वानुमान के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का प्रयोग

रेलवे संबंधित कंपोजिट मैटेरियल विज्ञान (रबर, पॉलिमर और इन्सुलेशन सामग्री सहित)

रेलवे अनुप्रयोगों के लिए एकीकृत / एम्बेडेड सिस्टम का विकास

अभिगम नियंत्रण, सुरक्षा, और बॉयोमीट्रिक्स सुरक्षा के लिए अनुप्रयोग

ओपन रेल वाहन के लिए प्लेटफार्म प्रोपल्सन कंट्रोल सिस्टम

गैर - परंपरागत ड्राइव और प्रौद्योगिकी,  मैग्लेव, एल॰आइ एम॰ सहित

ओ॰एच॰ई॰, ट्रैक और सिग्नल के लिए रिमोट सेंसिंग और मापन

 

समझौता प्रपत्र के अनुसार - भारतीय रेल “रेलवे अनुसंधान केंद्र” के लिए अनुदान प्रदान करेगा । पार्टी मे पारस्परिक रूप से धन और एमओयू के निष्पादनके तौर तरीकों कानिर्णय ए॰एस॰सी॰(सर्वोच्च संचालन समिति) की सिफारिशों केआधार पर तय होगा । एक “कार्यक्रम सलाहकार समिति” (पी॰ए॰सी॰)का गठन भारतीय रेलवे अधिकारियों और आई॰आई॰टी॰ खड़गपुर के संकाय सदस्यों को शामिल करके किया जाएगा पी॰ए॰सी॰ की सटीक संरचना “अपैक्स संचालन समिति” की सिफारिश के आधार पर होगी । पी॰ए॰सी॰ प्रशासन, निगरानी और सभी अनुसंधान एवं विकास से संबंधित गतिविधियों का निरीक्षण "समझौता प्रपत्रके तहत करेगा ।

 

रेलवेअनुसंधान केंद्र मेंरेलवे अनुसंधान से संबंधित क्षेत्रों मे पीएचडी कार्यक्रम की भी पेशकश करेगा और रेलवे प्रौद्योगिकी से संबंधित अनुसंधान परियोजनाओं मे पाठ्यक्रमऔर ऐच्छिकबिषय में बी टेक और एम. टेक के छात्रको भी शामिल करेगा ।

 

समझौता प्रपत्र के निष्पादन और कार्यान्वयनलिए एक “शीर्ष संचालन समिति”का गठनआरबीपत्र सं - 2010/ 3400/1दिनांक-23.03.2010के अनुसार निम्नलिखित सदस्यों से मिलकर किया गया है ।

 

महानिदेशक /आर॰डी॰एस॰ओ॰

प्रो॰ डी. आचार्य, निदेशक, आई॰आई॰टी॰ / खड़गपुर

प्रो॰ पी॰पी॰ चक्रवर्ती डीन(एसआरआईसी), आई॰आई॰टी॰खड़गपुर

प्रो॰ ए॰ चक्रवर्ती, डीन(सी॰ई॰), आई॰आई॰टी॰खड़गपुर

प्रो.एस॰ मुखोपाध्याय, प्रो॰ इलैक्ट्रिकल इंजीनियरिंगआई॰आई॰टी॰खड़गपुर

कार्यकारी निदेशक, अनुसंधान आर॰डी॰एस॰ओ॰लखनऊ                             

कार्यकारी निदेशक,एंड आर रेलवे बोर्ड

कार्यकारी निदेशक, वित्त (एक्स) द्वितीय रेलवे बोर्ड

:सह - अध्यक्ष

:सह - अध्यक्ष

: सदस्य

: सदस्य

: सदस्य

: सदस्य

: सदस्य

: सदस्य

 

सी॰आर॰आर॰के कार्यक्षेत्र के तहत प्रशासन, निगरानी और सभी अनुसंधान एवं विकास से संबंधित गतिविधियों की निगरानीके लियेएक “कार्यक्रम सलाहकार समिति” (पी॰ए॰सी॰)का गठन, आर॰डी॰एस॰ओ॰ लखनऊ के अधिकारियों और आई॰आई॰टी॰/खड़गपुरके संकाय सदस्यों और अन्य संस्थाओं से प्रौद्योगिकी केविशेषज्ञों को शामिल करके कियागया है । निम्न सदस्यों को “सर्वोच्च संचालन समिति” द्वारा पी॰ए॰सी॰ के सदस्यों केरूप में मनोनीत किया गया है ।

 

ए॰डी॰जी॰आर॰डी॰एस॰ओ॰

प्रो. ए॰के॰ मजूमदार, उप.निदेशक आई॰आई॰टी॰खड़गपुर

कार्यकारी निदेशालय / वित्त / आर॰डी॰एस॰ओ॰

कार्यकारी निदेशालय / वी॰डी॰जी॰ आर॰डी॰एस॰ओ॰

निदेशक / अनुसंधान / एस एंड टी

प्रो॰ एस॰ सोम, डीन स्नातकीय

प्रो॰ पी॰के॰ सेन चेयर प्रोफेसर, एस॰टी॰सी॰

प्रो॰ एस॰ मुखोपाध्याय, पी॰आई॰सी॰ सी॰आर॰आर॰ 

प्रो॰ टी॰के॰ घोषाल, प्रोफेसर ई॰ई॰जे॰यू॰कोलकाता

प्रो॰ प्रदीप दत्ता, प्रोफेसर एएम॰ई॰ , आईआईएससी बंगलोर

:सह - अध्यक्ष

:सह - अध्यक्ष

: सदस्य

: सदस्य

: संयुक्त सचिव

: सदस्य

: सदस्य

: संयुक्त सचिव

: सदस्य

: सदस्य

 

अबतक कार्यक्षेत्र मे प्रगति 

·         

दिनांक-13.02.2010 को समझौता प्रपत्र पर हस्ताक्षर किए गए.

·         

दिनांक-23.03.2010 को “सर्वोच्च संचालन समिति” का गठन किया गया और दिनांक-0 3.05.2010 को प्रथम बैठकका आयोजित हुई ।

·         

दिनांक-3.05.2010को पी॰ए॰सी॰का गठितहुआ ।

·         

सी॰आर॰आर॰मे अनुसंधानके लिए रेलवे बोर्डके पत्र सं॰-2010/एंड आर/3400/1दिनांकित-11.05.2010 मे निम्नलिखित क्षेत्रों मे कार्य शुरू करने का सुझाव दिया है।  

ü

भारी ढोना प्रौद्योगिकी

ü

हाई स्पीड टेक्नोलॉजीज

ü

रेलवे संबंधित मैटेरियल विज्ञान मे सम्मिश्र रबर, पॉलिमर और इन्सुलेशन सामग्री पर

ü

रखरखाव और प्रबंधन के लिए प्रीडिक्टिव आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का प्रयोग

सी॰आर॰आर॰ बिल्डिंग का निर्माण

 

20.38 करोड़ रुपये काम शुरू करने कि अस्थायीसुविधाओंके लिए मंजूरकिये गये है और सी॰आर॰आर॰ केनये स्थायी भवन के लिए रुपये-4.19 करोड़ और 9.86 करोड़वित्तीय वर्ष 2010-11और 2011-12 के लिए क्रमशः रेलवे बोर्ड द्वारा आई॰आई॰टी॰ / खड़गपुरके लिए जारी किया गया है

 

कम्प्यूटेशनल प्रयोगशाला,कार्यालयऔर प्रयोगात्मक प्रयोगशाला का नवीनीकरण पूरा हो चुका है ।अनुसंधान विद्वानों / छात्रों ने परियोजना मे कार्य के लिए इन सुविधाओं का उपयोग शुरू कर दिया है

 

यह निर्णय लिया है कि एक जी+4 मंजिला इमारत का सी॰आर॰आर॰ के लिए निर्माण किया जाएगा । हालांकिनींव का निर्माणभविष्य मे जी+7 के विस्तार की संभावना के लिए किया जाएगा ।सी॰आर॰आर॰कि मुख्य इमारत कि ड्राइंग ई॰पी॰आई॰एल॰ द्वारा तैयारकिया गया है इसे अंतिमरूप आर॰डी॰एस॰ओ॰ द्वारा सुझाव/संशोधन के बाद और आई॰आई॰टी॰खड़गपुरके सिविल निर्माणविभाग द्वारा स्वीकार करने के बाद दिया गयाहै । इमारत के लिए मृदा परीक्षण एएम॰/एस॰ ई॰पी॰आई॰एल॰ द्वारा पूरा किया गया है सी॰आर॰आर॰ इमारत के पूरा करने के लिए लक्ष्य मार्च-2013 है ।

 

सी॰आर॰आर॰के अंतर्गत प्रोजेक्ट्स

 

दस अनुसंधान एवं विकास परियोजनाओंमेंलगभग21.50 करोड़ रुपयेडब्लू॰पी॰ 2011-12 के तहत हैवी हौल , उच्च गति और मैटेरियल विज्ञान के क्षेत्रों में अनुसंधान के लिए मंजूर किया गया है और दोपरियोजनाओं को वर्क प्रोग्राम 2012-2013 में अनुमोदित किया गया है ।

 

निम्नलिखित बारह प्रोजेक्ट्स सी॰आर॰आर॰आई॰आई॰टी॰ / खड़गपुरको दिये गये है

 

         i.             

क्रीप एंड वारपिंग (इंक्लुडिंग गेज विदेनिंग) ऑफ हॉट लोको व्हील्स, टूवर्ड्स  डेवलपमेंट ऑफ डिज़ाइन गाइडलाइंस अगेन्स्ट गेज विदेनिंग

       ii.             

प्रोजेक्ट ऑन डेवलपमेंट ऑफ प्रोविज़न फार डिज़ाइन ऑफ स्टील कोंकरीट रेल्वे ब्रिज फॉर नॉर्मल स्पीड एंड स्पेशल प्रोविज़न फॉर हाइ स्पीड पैसेंजर ट्रैफिक

      iii.             

रेलवे पुलो की हेल्थ मॉनिटरिंग और वायरलेस सेंसर नेटवर्क का विकास

     iv.             

स्पेसिफिक एवल्यूशन ऑफ हाइ वोल्टेज इंसुलेटर/प्रेडिक्सन ऑफ रेसिडुयल लाइफ ऑफ कम्पोजीट इंसुलेटेर्स

       v.             

उच्च वोल्टेज इंसुलेटेर्स का वैज्ञानिक मूल्यांकन

     vi.             

डिज़ाइन एंड डेवलपमेंट ऑफ एन ऑन-बोर्ड इंटेलिजेंट एम्बेडेड प्लेटफॉर्म फॉर डिटेक्सन ऑफ वीक फेलियर मोड्स एण्ड प्रोग्नोसिस ऑफ सेवेरे फ़ाल्ट इन लोकोमोटीव्स एण्ड असोसिएटेड ईक्विपमेंट

    vii.             

डेवलपमेंट ऑफ कोम्पोजीसन &स्टंडर्डेजेसन ऑफ प्रोपर्टीज़ ऑफ कम्पोजीट ब्रेक ब्लोक्स फॉर एप्लिकेशन इन कोचेस ऑफ इंडियन रेल्वे

  viii.             

डेवलपमेंट ऑफ थर्मो मैकेनिकली प्रोसेस्ड हाइ स्ट्रेंथ बाइनिटिक स्टील रेल्स  फॉर इंडियन रेल्वे

     ix.             

ऐरोड्यनेमिक डिजाइन ऑफ ट्रेक्सन रोलिंग स्टॉक विथ स्पीड पोटेन्सियल ऑफ 250 किमी/घंटा अप्ग्रडेबिल टु 350 किमी/घंटे

       x.             

सस्पेन्सन एण्ड बोगीज टेक्नोलोजी फॉर हाइ स्पीड ट्रेन्स

     xi.             

असेस्समेंट ऑफ वैरियस स्ट्रेटेजीज ऑफ सीटिंग अरेंजमेंट

    xii.             

मॉडलिंग एण्ड वैलिडेशनऑफइंटरलॉकिंग फॉर रेलवे सिगनलिंगसिस्टम

 

अधिक जानकारी के लिए कृपयानीचे दिए गए लिंक पर जाएँ

एचटीटीपी://डबल्यूडबल्यूडबल्यू.सीआरआर.आईआईटीखड़गपुर.ईआरएनईटी.इन

 

  

 

 

 

 

 



Source : आरडीएसओ में आपका स्वागत है CMS Team Last Reviewed on: 26-04-2016  

  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.