Indian Railway main logo Welcome to Indian Railways RDSO Logo
  
View Content in English
National Emblem of India

हमारे बारे में

निदेशालय

निविदाएं

प्रदायक इंटरफ़ेस

समाचार एवं घटनाक्रम

कर्मचारी कल्याण

हमसे संपर्क करें



Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS

वर्तमान गतिविधियां
पुलों पर 25 टन एक्सिल लोड रेलगाडि़यों के चलाने हेतु दिषा निर्देश।
भारी एक्सिल लोडिंग के प्रभाव का आंकलन करने हेतु पुलों के यंत्रीकरण पर क्षेत्रीय रेलों की रिपोर्टों की जांच।
25 टन लोडिंग-2008 एवं डीएफसी लोडिंग (32.5 टन एक्सिल लोड) हेतु मानक ड्राइंगों की डिजाइन।
मानक ड्राइंगों के अनुसार ओपेन वेब गर्डरों एवं वेल्डित प्लेट गर्डरों की स्टील गर्डरों का निरीक्षण।
ओपेन वेब गर्डर एवं वेल्डित गर्डर, पॉट पीटीएफई, बियरिंग इलास्टोमेरिक बियरिंग एवं एक्सपेंशन जोड़ों के निर्माताओं की वेण्डर सूची का अद्यतनीकरण।
संहिताओं की समीक्षा।
आई आई टी के साथ अनुसंधान परियोजनाएं।
पुलों के अनुरक्षण से संबंधित मामलों के दिशा  निर्देश  तैयार करना।
वर्ष 2008-09 की उपलब्धियां
1.0 भारी एक्सिल लोड प्रचालनः
डीएफसी मार्गों पर पुलों की डिजाइन हेतु लोड मॉडल एवं श्रांति डिजाइन मानदंड विकसित कर लिए गए है  तथा रेलवे बोर्ड द्वारा अनुमोदित भी किए जा चुके हैं।
25 टन एक्सिल लोड हेतु पुलों की डिजाइन के लिए आई आर एस पुल नियमों की संशोधन स्लिप सं. 38 इस कार्यालय के पत्र सं. सीबी एस/पीबी आर दि0 31/7/2008 के तहत जारी कर दी गई है।
32.5 टन एक्सिल लोड हेतु पुलों की डिजाइन के लिए आई आर एस पुल नियमों की संशोधन स्लिप सं. 39 इस कार्यालय के पत्र सं. सीबीएस/पीबीआर दि0 22/10/2008 के तहत जारी कर दी गई है।
पुलों पर वास्तविक लोडिंग के आंकलन हेतु पुलों के यंत्रीकरण एवं भारी एक्सिल लोडिंग हेतु पुलों की क्षमता बढ़ाने हेतु क्षेत्रीय रेलों से संबद्धता।
2.0 संहिताएं, नियम पुस्तिका एवं विषिश्टियां-
 25 टन लोडिंग (बीजी) से संबंधित आई आर एस पुल नियमों की संवर्धन एवं संशोधन स्लिप सं. 38 दि0 31/7/2008 को जारी कर दी गई है।
डीएफसी लोडिंग (32.5 टन एक्सिल लोड) से संबंधित आई आर एस पुल नियमों की संवर्धन एवं संशोधन स्लिप सं. 39 दि0 22.10.2008 को जारी कर दी गई है।
पुलों के सुदृढ़ीकरण संबंधी आई आर एस पुल नियमों की संवर्धन एवं संषोधन स्लिप सं. 40 दि0 27/1/2009 को जारी कर दी गई है। 
कॉलम सं. 4 .4  कॉलम सं. 4.8.3 (पप) एवं कालम सं. 4.9.2 की समीक्षा से संबंधित आईआरएस पुल उप संरचना एवं नींव संहिता की संर्वधन एवं संशोधन स्लिप सं. 27 दि० 24/3/2008 को जारी की गई।
कॉलम सं. 5.8.1 की समीक्षा से संबंधित आई आर एस पुल उप-संरचना एवं नींव संहिता की संवर्धन एवं संशोधन स्लिप सं. 28 दि0 16.11.2008 को जारी की गई।
 लाइन दोहरीकरण, गेज परिवर्तन, नई लाइन एवं पुलों के निर्माण कार्यों की ड्राइंग के अनुमोदन से संबंधित भारतीय रेल पुल मैनुअल की संवर्धन एवं संशोधन स्लिप सं. १३ दि0 22.1.2008 को जारी की गई।
नींव सुरक्षा कार्य की संरक्षा, प्रषिक्षण कार्य, अनुमति में कमी एवं आर्थिक विचार विमर्ष से फ्री बोर्ड में प्रावधान संबंधी भारतीय रेल पुल मैनुअल की संवर्धन एवं संशोधन स्लिप सं. 14 दि0 20.3.2008 को जारी की गई।
स्थैतिक एवं गतिक फार्मूले सहित संरक्षा के न्यूनतम फ़ैक्टर संबंधी भारतीय रेल पुल मैनुअल की संवर्धन एवं संशोधन स्लिप सं. 15 दि0 5.8.2008 को जारी की गई।
 सभी पुलों हेतु सामान्य व्यवस्था ड्राइंगों से संबंधित भारतीय रेल पुल मैनुअल की संवर्धन एवं संशोधन स्लिप सं0 16 दि0 13.08.2008 को जारी की गई।
पैरा सं. 318 को शमिल करने के संबंध में भारतीय रेल पुल मैनुअल की संवर्धन एवं संशोधन स्लिप सं. 17 दि0 15.8.2008 को जारी की गई।
आर्क पुल को खोलने संबंधी भारतीय रेल पुल मैनुअल की संवर्धन एवं संशोधन स्लिप सं. 18 दि0 17.12.2008 को जारी की गई।
स्टील गर्डर के फेब्रीकेशन एवं खड़ा करने के सम्बन्ध  में स्टील गर्डर पुलों के फेब्रीकेषन एवं उन्हें खड़ा करने तथा लोकोमोटिव टर्नटेबिलों (बी-1/2001) की संवर्धन एवं संशोधन स्लिप सं. 3 दि0 25.3.2008 को जारी की गई।
स्टील ग्रेड डेजिगनेषन के संबंध में स्टील गर्डर पुलों के फेब्रीकेशन एवं उन्हें खड़ा करने तथा लोकोमोटिव टर्नटेबिलों (बी-1/2001) की संवर्धन एवं संशोधन स्लिप सं0 4 दि0 31.07.2008 को जारी की गई।
पैरा सं. 17, 1.8, 1,8, 1.10, 2.4.1 (बी) 2.5.3 एवं 2.5.4 के संबंध में कुंए एवं पाइल फाउंडेषन की डिजाइन एवं निर्माण की मैनुअल संवर्धन एवं संशोधन स्लिप सं0 01 दि0 26.9.2008 को जारी की गई।
 आई आर एस पुल नियमों को अद्यतन कर लिया गया है तथा संशोधन स्लिप सं. 39 तक शामिल कर इन्हें जारी कर दिया गया है। आई आर एस पुल नियमों को 1989 के बाद अद्यतन किया जा चुका है।
स्टील गर्डर पुलों के फेब्रीकेशन एवं उन्हें खड़ा करने एवं लोकोमोटिव टर्नटेबिल क्र. संबी- 1-2001 की आई आर एस विशिष्टि  संवर्धन एवं संशोधन स्लिप सं. 4 तक का पुनर्मुद्रण किया जा चुका है।
3.0 पुल मानक समितियां
3.1 बीएससी की 16वीं. असाधारण बैठक इरिसेन पुणे में 23 व 24 जून 2008 को आयोजित की गई। आई आर एस कंक्रीट पुल संहिता के संशोधन/अद्यतन करने के संबंध में कुल 31 मदों पर विचार विमर्ष हुआ। समिति द्वारा कुछ महत्वपूर्ण मदों पर विचार किया गया वे निम्न प्रकार हैः-
पद्ध बीटीडीजी की संस्तुतियों के अनुसार आई आर एसः सीबीसी की समीक्षा।
पपद्ध टिकाऊपन पर आधारित कंक्रीट के न्यूनतम ग्रेड से संबंधित आई आर एसः सीबीसी का क्लाॅज सं.
5.4.1 एवं इससे प्रभावित अन्य क्लाज़ ।
पपपद्ध सिंगिल स्पैन एवं मल्टी स्पैन के आर्क पुलों को खोलना।
3.2 पुल मानक समिति की 78 वीं बैठक पाण्डिचेरी दक्षिण रेलवे में 20 व 21 जनवरी 2009 को आयोजित की गई। बैठक में 10 नई मदों एवं 64 समीक्षा मदों पर विचार विमर्श  हुआ। आईआईटी/रूड़की द्वारा किए गए अध्ययन के आधार पर आई आर एस स्टील पुल संहिता में श्रांति प्रावधानों में संशोधन ‘‘विशय पर विस्तृत विचार विमर्श किया गया। प्रस्तावित प्रावधानों के सरल एवं अंतर्राश्ट्रीय संहिताओं के प्रावधानों के अनुसार होने के कारण समिति ने उन्हें अपनाने की सिफारिश  की है। बीएससी बैठक का कार्यवृत्त जारी कर दिया गया है।
4.0 मानक डिजाइनों का विकासः
4.1 स्टील संरचना डिजाइनें
‘‘25 टन लोडिंग-2008‘‘ के लिए 10 मिलियन चक्र हेतु 12.2 मी, 18.3 मी एवं 24.4 मी. स्टील प्लेट वैल्डित टाइप गर्डर की डिजाइन एवं ड्राइंगें।
‘‘डीएफसी लोडिंग (32.5 टन एक्सिल लोड)‘‘ के लिए 10 मिलियन चक्र हेतु 12.2 मी एवं 18.3 मी स्टील प्लेट की वैल्डित गर्डर की डिजाइन एवं ड्राइंगे।
 ‘‘25 टन लोडिंग 2008‘‘ के लिए 10 मिलियन चक्रों हेतु 30.5 मी एवं 45.7 मी. की वैल्डित टाइप ओपेन वेब गर्डर की डिजाइन एवं ड्राइंगें।
हाफ इंड व्यू हाफ सेक्षन 30.5 स्पैन ‘‘25 टन लोडिंग (25 टन एक्सिल लोड)‘‘ 10ग106 चक्र
4.2 कंक्रीट संरचना डिजाइनें:
‘‘25 टन लोडिंग 2008‘‘ हेतु 3.05 मी., 3.66 मी., , 6.1 मी. एवं 9,15 मी. पूर्व तनित स्लैब की डिजाइन एवं ड्राइंग।
‘‘25 टन लोडिंग 2008‘‘ हेतु 12.2 मी. एवं 18.3 मी. आई गर्डर की डिजाइन एवं ड्राइंग।
‘‘25 टन लोडिंग 2008‘‘ हेतु 18.3 मी. आई गर्डर
 ‘‘डीएफसी लोडिंग (32.5 टन एक्सिल लोड) हेतु 6.1 मी. के पूर्व तनित स्लैब की डिजाइन एवं ड्राइंगें।
‘‘25 टन लोडिंग 2008‘‘ हेतु 0.61 मी, 0.915 मी., 1.22 मी., 1.83 मी., एवं 2.44 मी. स्पैन के आरसीसी स्लैब की डिजाइन एवं ड्राइंगे।
 ‘‘डीएफसी लोडिंग (32.5 टन एक्सिल लोड)‘‘ हेतु 0.61 मी., 0.915 मी., 1.22 मी., 1.83 मी. एवं 2.44 मी. स्पैन के आरसीसी स्लैब की डिज़ाइन एवं ड्राइंगें।
सेगमेंटल बक्सों  का प्रयोग करते हुए सीमित ऊंचाई के सब-वे हेतु सामान्य व्यवस्था ड्राइंग।
 सीमित उपयोगी सब-वे हेतु सेगमेंटल आरसीसी बक्सों  के लिए अनंतिम समान्य व्यवस्था ड्राइंग विकसित कर ली गई है तथा परीक्षण के तौर पर अपनाने हेतु रेलवे बोर्ड भेज दी गई है। गोवा में आयोजित 77वीं बीएससी बैठक की सिफारिषों के अनुसार ड्राइंग की एक प्रति अनुमोदन हेतु रेलवे बोर्ड भेज दी गई है। आरडीएसओ ने कंक्रीट संरचना में प्रयोग हेतु उच्चतर ग्रेड के स्टील एवं एफई-500 की जांच कर ली है तथा इस संबंध में विस्तृत स्पश्टीकरण सभी क्षेत्रीय रेलों को जारी कर दिए गए हैं।

5.0 जारी किए गए बीएस प्रकाशन
इस अवधि में निम्नलिखित तकनीकी रिपोर्टें प्रकाषित की गई है |
बीएस-90-विलासपुर के निकट अप/मिड् लाइन के पुल सं. 46 के अवषेश श्रांति जीवन काल के आंकलन एवं विभिन्न मेंबरों में दरारों के संभावित कारणों का अध्ययन।
बीएस-91-स्टील गड्रर पुलों के अवषेश श्रांति जीवन काल के आंकलन हेत दिषा निर्देश।
बीएस-92-पूर्वोत्तर रेलवे के गोरखपुर-पनिहावा सेक्षन पर पुल सं. 9 व 7 के पियरों के कंपन का मापन।
 बीएस-93-दक्षिण पष्चिम रेलवे के हसन-मंगलौर सेक्षन पर पुल सं. 133, 165 एवं 263 के पीयरों का दशा आकंलन।
 बी एस-94-दक्षिण मध्य रेलवे के आगरा कैंट में नवनिर्मित डीआरएम कार्यालय भवन पर अविनाशी परिक्षण।
बीएस-95-लुधियाना के निकट अप/डाउन (सतलज पुल) की पुल सं. 5 ए के गर्डरों के अवषेश जीवन काल का आंकलन।
 बी एस-96- पुलों पर पानी के अंदर निरीक्षण हेतु दिशा निर्देष।
बीएस-97-पूर्व सीमांत रेलवे पर विजयानगरम के निकट पुल संः 1554 अप लाइन की गर्डरों के अवषेश श्रांति जीवन काल का आंकलन।
 बीएस-98- आरडीएसओ द्वारा पूर्व रेलवे के आसनसोल डिवीजन में पुल सं. 49 का निरीक्षण।
 बीएस-99-आरडीएसओ द्वारा उत्तर पष्चिम रेलवे के अजमेर डिवीजन में पुल सं. 178 का निरीक्षण।
बीएस-100-चिन्हित मार्गों पर मुख्य परियोजना के रूप में सीसी़8-2 टन/सीसी 6-2 टन तक लोडित बॉक्स एन वैगनों के प्रचालन हेतु पुलों की माॅनीटरिंग रिपोर्ट।
बीएस-101-उत्तर-मध्य रेलवे के इलाहाबाद डिवीजन के इटावा में समपार फाटक सं. 27 के स्थान पर रोड-ओवर-ब्रिज का अविनाशी  परीक्षण।
6.0 जारी तकनीकी रिपोर्टेः
 उत्तर सीमांत रेलवे के पुल सं. 173 की निरीक्षण रिपोर्ट।
 आरडीएसओ की ड्राइंग सं. बीए-6081 के अनुसार डिजाइन किए गए दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के पुल सं. 46 की 30.5 मी. अंडर स्लग गर्डर में आई दरारों की जानकारी पर रिपोर्ट।
 उत्तर-पश्चिम रेलवे के अजमेर डिवीजन में भीलवाड़ा के निकट 30.5 मी. पीएससी बॉक्स गर्डर पुल (पुल सं. 140) का निरीक्षण।
हसन-मेंगलोर सेक्षन में सक्लेशपुर-सुब्रह्मण्य रोड के घाट सेक्षन में बेड-ब्लाकों की टूटन/दरारें।
दक्षिण-पष्चिम रेलवे के सक्लेशपुर-सुब्रह्मण्यम रोड के पुल सं. 133, 165 एवं 263 के पायों एवं फीलपायों में दरारें।
हसन-मेंगलोर सेक्षन में पुलों पर 8 डिग्री घुमाव पर चैनल स्लीपरों में दरारें।
 उपग्रही चित्रों के अध्ययन पर मसौदा दिशा निर्देश तैयार कर टिप्पणी हेतु सभी क्षेत्रों को पत्र सं. आरबी एफ/एनआरएसए दि0 28.11.08 के तहत जारी कर दिये गये हैं।

7.0 परामर्श/पू्रफ चेकिंग कार्यः

30 किमी/घंटा पर इसे एमबीजी लोडिंग हेतु फिट करने के लिए एमबीजी लोडिंग और पू्रफ चेक करने हेतु पूर्वी तट रेलवे पर पुल सं. 89 के वर्तमान 30.5 मी. चैडे़ अंडरस्लंग एमजी एम एल का विष्लेशण करने के लिए पुल एवं संरचना निदेषालय ने असाधारण प्रयास किए हैं। इससे पूर्वी तट रेलवे धन के रूप में लगभग 40 करोड़ रूपये तथा समय के रूप में 4 वर्श की बचत करने योग्य हो गई है।
7.2 यह निदेशालय विषेश पुलों एवं संरचनाओं की डिजाइन के डिजाइन मानदंड के विकास की प्रक्रिया तथा पुलों एवं संरचनाओं की पू्रफ चेकिंग जैसे कार्य भी करता है। हाल ही में इस निदेशालय द्वारा कुछ महत्वपूर्ण पुलों पर डिजाइन पू्रफ चेकिंग की गई थी, वे निम्न प्रकार हैः
पूर्व रेलवे के भागीरथी पुल की पू्रफ चेकिंग।
उत्तर सीमांत रेलवे के बोगीबील पुल की पू्रफ चेकिंग।
आर बी एनएल की हरिदासपुर-पारादीप नई रेल लाइन पर 43.8 मी. स्पैन के पीएससी बाॅक्स गर्डर की पू्रफ चेकिंग।
8.0 ई- डाक्यूमेंटेशन एवं सॉफ्टवेर विकास
आरडीएसओ ने 1925 से अब तक की बीएससी की सभी कार्यवाहियों के ई-डाक्यूमेंटेशन की सीडी तैयार की है।
आई आर एस पुल नियमों में ईयूडीएल के प्रावधानों को तर्कसंगत करने हेतु आरडीएसाओ ने उपयोक्ताओं के अनुकूल ‘‘भार संचालन एवं परवर्ती व्यापक वैद्यीकरण‘‘ नामक साफ्टवेयर विकसित किया है इस साफ्टवेयर के उपयोग हेतु दिशा  निर्देश  सहित इसे सभी क्षेत्रीय रेलों को जारी कर दिया गया है।
9.0 पूर्ण की गई अनुसंधान परियोजनाएं-
आईआरएस स्टील पुल संहिता के श्रांति प्रावधानों में संशोधन :
यह परियोजना पूर्ण हो गई है। आई आई टी रूड़की द्वारा किए गए अध्ययन के आधार पर आई आर एस स्टील पुल संहिता के श्रांति प्रावधान के संशोधनो पर जनवरी-2009 में आयोजित 78वीं बीएससी बैठक में व्यापक विचार विमर्श किया गया। इस बात की सहमति थी कि स्टील पुलों के श्रांति आंकलन हेतु प्रस्तावित प्रावधानो को तर्क संगत होने के कारण अपनाना चाहिए।
10.0 तकनीकी दिशा निर्देषः
आरडीएसओ ने सभी क्षेत्रीय रेलों को टिप्पणी हेतु निम्नलिखित मसौदा दिषा निर्देष जारी किए हैः-
उपग्रही चित्रों के अध्ययन पर दिशा  निर्देश
रेल पुलों के ध्वनि उत्सर्जन परीक्षण हेत दिशा  निर्देश
पुलों का पानी के अंदर निरीक्षण करने हेतु दिशा निर्देश
 फुट ओवर ब्रिज के फेब्रीकेशन हेतु दिशा निर्देश।
स्टील गर्डर पुलों के अवषेश जीवन काल आंकलन हेतु दिशा निर्देश।
11.0 स्टील गर्डरों के फेब्रीकेषन का निरीक्षण।
अभी तक आरडीएसओ ने विभिन्न क्षेत्रीय रेलों के स्टील गर्डरों के 12000 एमटी फेब्रीकेषन कार्यों का निरीक्षण किया है।
12.0 प्रषिक्षण
आरडीएसओ द्वारा अप्रैल, 2008 में मुगल सराय एवं मनमाड़ के पुल प्रषिक्षण संस्थानों में स्टील पुल गर्डर के फेब्रीकेशन एवं उन्हें खड़ा करने हेतु प्रषिक्षण का आयोजन किया गया।
13.0 रेल पुलों का यंत्रीकरणः
क्षेत्रीय रेलों से प्राप्त यंत्रीकरण रिपोर्टों का विस्तृत विष्लेशण कर लिया गया है जिसका संारांष निम्न प्रकार हैः-
13.1 यंत्रीकरण की प्रमुख विषेशताएं:
यंत्रीकरण हेतु योजनागत पुलों की कुल सं.त्र80
 सीसी़8़2 टन हेतु योजनागत पुलों की कुल सं. त्र51
 सीसी़6़2 टन हेतु योजनागत पुलों की कुल सं. त्र29
 अब तक ली जाने वाली 320 रीडिंगों में से (80 पुल) क्षेत्रीय रेलों द्वारा 131 रीडिंग (60 पुल) ली गई हैं तथा 64 रिपोर्टें आरडीएसओ में प्राप्त हुई हैं जिनका विष्लेशण किया जा चुका है।
13.2 श्रांति जीवन काल का आंकलनः
 अधिकांष प्लेट गर्डर (305 मी स्पैन को छोड़कर) एवं अंडर-स्लंग पुलो का उच्च श्रांति जीवन काल (200 वर्श से कम) आंका गया है।
30.5 मी. स्पैन में दो पुलों (345 एवं 544) का श्रांति जीवन काल क्रमषः 70 वर्श एवं 100 वर्श आंका गया है।
अधिकांषतः थ्रू गर्डरों का श्रांति जीवन काल 10 से 80 वर्श के मध्य आंका गया है।
थू गर्डरों में रेल बियरर मुख्य जटिल सदस्य होते हैं जबकि अंडर-स्लंग गर्डरों में एंड रेकर।
चालू परियोजनाएं
i) अनुसंधान परियोजनाएं
आई आई टी मुंबई के साथ एक उपकरणीकृत पुल परीक्षण का विकास एवं कंपन चिह्नक विष्लेशण के प्रयोग द्वारा पुलों का दशा  मूल्यांकन करना।
पुलों के परीक्षण हेतु शेष एनडीटी उपस्करों की खरीद।
 आई आई टी/खड़गपुर के साथ मिल टीडीआर जैसी विभिन्न रियल टाइम मोनिटरिंग   प्रणालियों के विचार एवं संरक्षा तथा पुल अपरदन (स्काउर) आंकलन मापन करना।
पुलों की दषा मोनिटरिंग  एवं पुल क्षमता आंकलन।
आई आई टी/रूड़की के साथ आई आर एस पुल संहिता के श्रांति प्रावधानों में संशोधन।
रेल पुलों की भूकंपीय डिजाइन पर दिषा निर्देषों का विकास एवं आई आई टी/कानपुर में रेल इंजीनियरों का प्रषिक्षण।
कंक्रीट बॉक्स गर्डर पुलों में तापमान घटकों का अध्ययन।

ii) आरडीएसओ की डिजाइन ड्राइंग परियोजनाः
‘‘डीएफसी लोडिंग (32.5 टन एक्सिल लोड)‘‘ हेतु 30.5 मी. स्पैन के वेल्डित टाइप की ओपेन वेब गर्डर की डिजाइन।
 ‘‘डीएफसी लोडिंग (32.5 टन एक्सिल लोड)‘‘ हेतु 45.7 मी. स्पैन के वेल्डित टाइप ओपेन वेब गर्डर की डिजाइन।
 ‘‘डीएफसी लोडिंग (32.5 टन एक्सिल लोड)‘‘ हेतु 61.0 स्पैन के वेल्डित आइप ओपेन वेब गर्डर की डिजाइन।
 ‘‘डीएफसी लोडिंग (32.5 टन एक्सिल लोड)‘‘ हेतु 76.2 स्पैन के वेल्डित टाइप के ओपेन वेब गर्डर की डिजाइन।
 ‘‘25 टन लोडिंग 2008‘‘ हेतु 30.5 मी. एवं 45.7 मी. स्पैन के वेल्डित टाइप ओपेन वेब गर्डर के बियरिंग की डिजाइन।
 ‘‘25 टन लोडिंग 2008‘‘ हेतु 61.0 मी. एवं 76.2 मी. स्पैन के वेल्डित टाइप ओपेन वेब गर्डर के बियरिंग की डिजाइन।
‘‘25 टन लोडिंग 2008‘‘ हेतु वर्तमान मानक डिजाइनों की जांच।
 ‘‘डीएफसी लोडिंग (32.5 टन एक्सिल लोड)‘‘ हेतु वर्तमान मानक डिजाइनों की जांच।
 ‘‘25 टन लोडिंग 2008‘‘ हेतु 12.2 मी, 18.3 मी. एवं 24.4 मी. कंपोजिट वेल्डित गर्डरो की डिजाइन।
 ‘‘25 टन लोडिंग 2008‘‘ हेतु 0.61 मी, 0.915 मी., 1.22 मी, 1.83 मी. एवं , 2.44 मी. स्पैन के आरसीसी स्लैबों की डिजाइन।
 डीएफसी लोडिंग (32.5 टन एक्सिल लोड) हेतु 0.61 मी., 0.915 मी. 1.22 मी, 1.83 मी. एवं 2.44 मीटर स्पैन के आरसीसी स्लैबों की डिजाइनं
 ‘‘25 टन लोडिंग (32.5 टन एक्सिल लोड)‘‘ हेतु 3.05 मी, 3.66 मी0, 4.57 मी, 6.10 मी, 9.15 मी स्पैन के पीएससी स्लैबों की डिजाइन।
 ‘‘डीएफसी लोडिंग (32.5 टन एक्सिल लोड)‘‘ हेतु 3.05 मी. 3.66 मी., 4.57 मी., 6.10 मी, 9.15 मी. स्पैन के पीएसस स्लैबों की डिज़ाइन।
 ‘‘25 टन लोडिंग 2008‘‘ हेतु 12.2 मी. एवं 18.3 मी. स्पैन के 21 पीएससी (पष्च तनित) गर्डरों की डिजाइन।
 ‘‘25 टन लोडिंग 2008‘‘ हेतु 12.2 मी. स्पैन के प्रतिबंधित ऊंचाई, पष्च तनित 4 आईपीएससी गर्डरों की डिजाइन।
 ‘‘25 टन लोडिंग 2008‘‘ हेतु 9.15 मी. स्पैन के पूर्व बलित कंक्रीट स्लीपर स्लैब (2 इकाईयां) हेतु माॅस कंक्रीट (एम 25 कंक्रीट ग्रेड) खंभों व फीलपायों की डिजाइन।
 25 टन लोडिंग 2008 हेतु 9.15 स्पैन के पीएससी स्लैब (3 इकाइयों) के लिए माॅस कंक्रीट (एम 25 कंक्रीट ग्रेड) खंभों एवं फीलपायों की डिजाइन।
 डीएफसी लोडिंग (32.5 टन एक्सिल लोड) हेतु 9.15 मी स्पैन के पीएससी स्लेबो (3 इकाइयों) के लिए मास कंक्रीट (एम-25 कंक्रीट ग्रेड) के खंभों एवं फीलपायों की डिजाइन।
 ‘‘डीएफसी लोडिंग (32.5 टन एक्सिल लोड)‘‘ हेतु 9.15 मी. स्पैन के पीएससी स्लैबों (3 इकाइयों) के लिए मास कंक्रीट (एम-25 कंक्रीट ग्रेड) के खंभों एवं फीलपायों का डिज़ाइन।
 ‘‘25 टन लोडिंग 2008 हेतु‘‘ 12.2 मी0 स्पैन के पष्च तनित पीएससी स्लैब की डिजाइन।
 ‘‘25 टन लोडिंग 2088 हेतू ‘‘ 24.4 मी. स्पैन के पष्च तनित पीएससी स्लैब की डिजाइन।
iii). अन्य विविध कार्य
 पूर्व सीमांत रेलवे में कोरापुट के निकट पुल सं. 586 का यंत्रीकरण।
 उत्तर मध्य रेलवे के इलाहाबाद डिवीजन में इटावा के समपार फाटक सं. 27 के स्थान पर आरओबी का अविनाशि परीक्षण।
 पुलों के अविनाषी परीक्षण हेतु दिशा निर्देश।
 उत्तर पष्चिम रेलवे के अजमेर डिवीजन में भीलवाड़ा के पुल सं. 140 का अविनाषी परीक्षण।
 रेल पुलों पर ध्वनि उत्सर्जन तकनीक के उपयोग हेतु दिशा  निर्देश।
 बियरिंगों के अनुरक्षण हेतु दिशा  निर्देश।
 उपग्रही चित्रों के अध्ययन पर दिशा  निर्देश।
 रेलपथ के पाइप लाइन समपारों हेतु दिशा  निर्देश।
 अनजाने पुल फाउंडेषन की मैपिंग हेतु दिशा  निर्देश।



Source : आरडीएसओ में आपका स्वागत है CMS Team Last Reviewed on: 23-08-2011  

  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.