Indian Railway main logo Welcome to Indian Railways RDSO Logo
  
View Content in English
National Emblem of India

हमारे बारे में

निदेशालय

निविदाएं

प्रदायक इंटरफ़ेस

समाचार एवं घटनाक्रम

कर्मचारी कल्याण

हमसे संपर्क करें



Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS

अनुसंधान, विकास एवं जांचः-

उन्नत कंपोजिटों (एफआरपी) में स्टील गर्डर पुलों हेतु स्लीपर का विकास
वुडन ब्रिज स्लीपर के विकल्प के रूप में आरएंडडीई (इंजीनियर्स) पुणे एवं टीआईएफएई के सहयोग से आरडीएसओ ने उन्नत कंपोजिटों में गर्डर ब्रिज स्लीपर विकसित करने की परियोजना षुरू की है। आरडीएसओ में प्रोटोटाइप स्लीपरों का परीक्षण सफलतापूर्वक कर लिया गया है। एसईआरसी, चेन्नई में गतिक (डायनाॅमिक) पैनल परीक्षण भी सफलतापूर्वक कर लिया गया है। परामर्षी एवं माॅनटरिंग समिति ने परियोजना के पूर्ण हो जाने की घोशणा की थी तथा स्लीपरों को क्षेत्रीय परीक्षण हेतु अनुमत कर दिया गया है। एफआरपी स्लीपर की विषिश्टि एवं स्वीकृति परीक्षण योजना (एटीपी) जैसे प्रौद्योगिकी स्थानांतरण प्रत्येक आरएंडडीई (इंजीनियर्स) पुणे से प्राप्त कर लिए गए है। जुलाई 2002 से रेलों पर नियमित प्रयोग हेतु स्लीपर उपलब्ध हो जाने की आषा है।

बैलास्टेड डेक पुलों पर सीडीए ट्रायल
बैलास्टेड डेक कंक्रीट पुलों पर डायनामिक आॅगमेंट (सीडीए) का गुणांक निर्धारित करने एवं पुलों पर सीडीए के वर्तमान प्रावधानों के वैधीकरण हेतु भी परीक्षण किए गए थे। 13 पुलों पर किए गए परीक्षण की विस्तृत रिपोर्ट (रिपोर्ट सं. बीएस/20) तैयार की गई तथा 71 वीं बीएससी मीटिंग में इस पर विचार विमर्स  किया गया।

एकाउस्टिक एमिषन तकनीक
एकाउस्टिक एमिषन तकनीक (एईटी) सापेक्ष रूप से एक नई अविनाशी तकनीक है जो पुलों पर सक्रिय दरारों की माॅनीटरिंग हेतु उच्च क्षमता रखती है। आरडीएसओ ने रेल पुलों पर प्रयोग हेतु हाल ही में एई उपस्कर के दो सेट खरीदे हैं।


उत्तर सीमांत रेलवे के जोगीघोपा पर रेल-सह-रोड पुल की सुपर संरचना का इंस्ट्रूमंेटेषन।
तकनीकी परामर्ष समूह (टीएजी) ने कहा कि जोगीघोपा में रेल-सह-रोड पुल की सुपर संरचना को चालू करने से पहले मेम्बर्स में प्रतिबलों को मापने हेतु यंत्रीकृत किया जाना चाहिए। तदनुसार, उपर्युक्त वर्णित पुल की स्टेªन गेजिंग हेतु 30.5 मी0 एवं 120.0 मी0 के दो चयनित स्पैनों को यंत्रीकृत किया गया था। स्टील मेंबरों के वास्तविक प्रतिबलों का आंकलन करने पर अभिकल्पिक वैल्यू से कम पाया गया, इस तरह पर्याप्त डिज़ाइन का प्रावधान किया गया।.
 

एल्यूमिनियम एलाॅय गर्डर का परीक्षण
संरचना उपचार हेत भारतीय रेलों पर प्रयोग के लिए फैब्रीकेटेड एल्यूमिनियम एलाॅय गर्डर पर डिजाइन की पर्याप्तता संस्थापित करने हेतु भार परीक्षण किए गए।

रेल पुलों पर रेलगाड़ाी चलने से उत्पन्न ध्वनि का अध्ययन
विभिन्न प्रकार के स्लीपर बिछाए जाने पर पुल के ध्वनि स्तर की तुलना करने हेतु परीक्षण किए गए तथा रिपोर्ट सं0 बी एसः 12 जारी की गई। जहां तक ध्वनि उत्पादन की बात है, स्टील चैनल गर्डरों में सुधार हेतु आरडीएसओ की मानक ड्राइंग की आवष्यकता नहीं है।

रेलपथ के समीप स्थित संरचनाओं पर रेलगाड़ी से उत्पन्न कंपनों का प्रभाव।
रेलपथ के समीप स्थित संरचनाओं पर रेलगाड़ी चलने से उत्पन्न कंपनों के प्रभाव का अध्ययन करने एवं डिज़ाइन में परिवर्तन हेतु सुझाव देने के लिए परीक्षण करके एवं रिपोर्ट नं0 बीएस-33 जारी की गई। रेलपथ के निकटस्थ संरचनाओं हेतु कोई ठोस उपायों की जरूरत नहीं है।

एफआरपी स्लीपर पर संघट्टन परीक्षण
संघट्टन लोडिंग के विरूद्ध एफआरपी स्लीपर के निश्पादन के आंकलन हेतु परीक्षण किए गए और रिपोर्ट न. बी एस 31 जारी की गई। लकड़ी के स्लीपर की अपेक्षा एफआरपी पुल स्लीपर की संघट्टन प्रतिरोधकता बेहतर है।

पू्रफ चेकिंग एवं परामर्श
निम्नलिखित पू्रफ चेकिंग कार्य पूरे किए गए।
डब्ल्यूडीजी-2 रेल इंजन हेतु पूर्वोत्तर रेलवे के पुल सं0 285 एवं 66 की जांच की गई है। 0.61 मी0 स्पैन के गिट्टी रहित स्लैब पर 300 मिमी. बैलास्ट कुषन की व्यवस्था करने हेतु पर्याप्तता।
गंभीर पुल, जेयूआरएल परियोजना एवं उत्तर रेलवे की उप संरचनाओं की प्रूफ चेकिंग।
हावड़ा-मद्रास सेक्षन में महानदी पर प्रस्तावित सेक्षन के पुल सं. 544 की उप-संरचनाओं की डिज़ाइन गणना की प्रूफ चेकिंग।
गया-मुगल सराय सेक्षन मे रफीगंज एवं देव रोड के मध्य पुल सं. 445 की उप संरचनाओं की डिजाइन चेकिंग।
550.13 किमी पर सोन नगर एवं डेहरी-ओन-सोन के मध्य सोन नदी पर नया पुल सं. 531 (एमबीजी लोडिंग हेतु 30.5 मी. स्पैन बाॅक्स गर्डर)।
बालावली पुल (इलास्टोमेरिक बियरिंग) की प्रूफ चेकिंग।
मेर दिपल्ली नल्ला पर 4ग6.5 मी0 ़10ग12.2 मी. त्र6ग6.1 मी. स्पैन के पुल सं. 353 की उप संरचना की डिजाइन।
मैसूर हसन सेक्षन में गेज परिवर्तन हेतु प्रस्तावित 16ग12.2 मी. त्र8ग18.3 मी स्पैन के पुल सं. 264 पर एबटमेंट को मजबूत करने हेतु डिज़ाइन।
महबूब नगर- द्रोणाचलम सेक्षन में आलमपुर एवं कुरनूल टाउन के मध्य तुंगभद्रा नदी पर 45ग18.3 मी. स्पैन के पुल सं. 442 की डिजाइन।
महबूब नगर-द्रोणाचलम सेक्षन पर श्रीराम नगर गडवाल के मध्य कृश्णा नदी पर 34ग24.4 मी0 स्पैन के पुल सं0 398 की डिजाइन।

दक्षिण पूर्व रेलवे

एच एम लोडिंग हेतु 50 कर्व पर 18.3 मी. पीएससी‘‘आई‘‘ गर्डरों की डिजाइन।
एच एम लोडिंग हेतु 18.3 मी प्लेट गर्डर एवं 170 फिट स्पैन ओपन वेब गर्डर की डिजाइन।
एच एम लोडिंग हेतु 12.2 मी पीएससी-3 ‘‘आई‘‘ का डिज़ाइन।
एच एम लोडिंग हेतु 12.2 मी पीएससी 2 ‘‘आई‘‘ बाक्स गर्डर की डिजाइन।
तल्चर -संबलपुर रेल लिंक परियोजना में बोइंडा आरओबी की पीएससी की डिजाइन।
दैतारी-क्योंझर -बांसपानई रेल लिंक परियोजना पर एचएम लोडिंग हेतु 12.2 पीएससी ‘‘आई‘‘ गर्डर की डिजाइन।
दैतारी-क्योंझर- बांसपानई रेल लिंक परियोजना पर एचएम लोडिंग हेतु 18.3 मी पीएससी ‘‘आई‘‘ गर्डर की डिजाइन।
दैतारी-क्यांेझर-बांसपानई रेल लिंक परियोजना पर एच एम लोडिंग हेतु 30.5 मी पीएससी बाक्स गर्डर की डिजाइन।
संतरागाची स्टेषन के पास कोना एक्सप्रेस हाई वे के 2ग20.146 मी ़ 2ग्24.717 मी ़ 1ग्34.822 मी. स्पैन के रोड-ओवर ब्रिज की डिजाइन।
दैतारी-क्योंझर बांसपानई रेल लिंक परियोजना हेतु 3ग 18.3 मी. स्पैन के पुल से 152 की डिजाइन।
दैतारी-क्यांेझर-बांसपानई रेल लिंक परियोजना हेतु 1ग 30.5 मी. स्पैन के पुल सं. 157 की डिजाइन।
दैतारी-क्योंझर- बांसपानई रेल लिंक परियोजना हेतु 1ग 30.5 मी स्पैन के पुल सं. 164 की डिजाइन।
दैतारी-क्योंझर- बांसपानई रेल लिंक परियोजना में खंजोरी नदी पर 1ग30.5 मी ़ 1ग18.3 मी. स्पैन के पुल सं. 169 की डिजाइन।
दक्षिणपूर्व रेलवे में दैतारी-क्योंझर- बांसपानई रेल लिंक परियोजना बाॅक्स गर्डर की डिजाइन।
मध्य रेलवे
मध्य रेलवे की कुर्दवाड़ी पन्ढरपुर गेज परिवर्तन के संबंध में 40 कर्व पर आई-गर्डर की डिजाइन की जांच (सीएओ/सी/मध्य रेलवे)।
सीएओ/सी/मध्य रेलवे हेतु मध्य रेलवे के दीवा-वसाई सेक्षन के मध्य 76/3-4 किमी. पर रोड-अंडर-ब्रिज आर सीसी बाॅक्स की डिजाइन।
उत्तर सीमांत रेलवे
उत्तर सीमांत रेलवे के लमडिंग फर्केटिंग सेक्षन पर प्रस्तावित रोड-ओवर-ब्रिज।
गर्डर से होकर 22.91 मी. (75‘ लगभग) स्पैन की डिजाइन का प्रूफ परामर्श ।
उत्तर रेलवे
जम्मू तवी-ऊधमपुर रेल लिंक परियोजना पर 3ग31.5 मी. स्पैन के पुल सं. 78 के 31.5 पीएससी बाॅक्स गर्डर की डिजाइन।
जम्मूतवी-ऊधमपुर रेल लिंक परियोजना पर 6ग20.3 मी0 स्पैन के पुल सं. 89 की 20.3 मी पीएसी बाॅक्स गर्डर की डिजाइन।
जम्मूतवी-ऊधमपुर रेल लिंक परियोजना पर रिंघल पुल की 2ग56.00 मी़ 1ग80 मी. पीएससी बाक्स गर्डर की डिजाइन।
जम्मूतवी-ऊधमपुर रेल लिंक परियोजना पर गंभीर पुल की 2ग71 मी़ ़1ग102 मी. पीएससी बाक्स गर्डर की डिजाइन।
जम्मूतवी-ऊधमपुर रेल लिंक परियोजना पर ई-32 जोन के पुल सं. 118 ‘ए‘ के 11ग16.15 मी. स्पैन पीएससी बाक्स गर्डर की डिजाइन।
मेसर्स मेटको, कोलकाता एवं मेसर्स जे. संस, मेरठ की 30.5 मी0 बाक्स गर्डर (एमबीजी-लोडिंग) हेतु पाॅट पीटीईई बियरिंग की प्रूफ चेकिंग।
जम्मूतवी-ऊधमपुर रेल लिंक परियोजना (मेसर्स इरकाॅन कन्सोर्टियम) की गिट्टी रहित स्लैब की प्रूफ चेकिंग।
छपरा-आॅरिहर सेक्षन के मध्य पुल सं. 66 एवं 39 हेतु प्लेट गर्डर की चेकिंग, रजिस्टर सं. डीडी 2005/4 (ड्राइंग न0-बी/58/0784)
पूर्वोत्तर रेलवे के आरिहर-वाराणसी सेक्षन के मध्य 30 कि/घंटा की गति पर 1 डब्ल्यू डीजी   2़7.59 टी/मी. की लोडिंग हेतु पुल सं. 37 पर गर्डर की डिजाइन की गणना जांच। (आरडीएसओ ड्राइंग नं0 बी-ए-1570)
पूर्व रेलवे की भागीरथी नदी पर पुल की उपसंरचना की डिजाइन जांच।
पूर्व रेलवे की अज़ीमगंज-जियागंज रेल लाइन (103.5 मी. स्पैन का ओपन वेब गर्डर) के भागीरथी नदी पर बने पुल की डिजाइन जांच।
पूर्व रेलवे के हावड़ा-मद्रास सेक्षन पर महानदी पर प्रस्तावित पुल सं. 544 (सीडब्ल्यूजी) की सुपर संरचना की डिजाइन गणना जांच।
उत्तर रेलवे के जम्मू-ऊधमपुर रेल लिंक हेतु पुल सं. 20 (153.4 मी. स्पैन का ओपेन वेव गर्डर) की जांच।
उत्तर रेलवे के सियालदाह डिवीजन में पुल सं0 41 के थू्र-टाइप गर्डर की उप संरचना की जांच।
दक्षिण पूर्व रेलवे के हावड़ा-भुवनेष्वर सेक्षन पर कटक के निकट महानदी पर बने दूसरे पुल की जांच।
मोंगेर में गंगा नदी पर बने पुल की उपसंरचना की जांच।
उत्तर सीमांत रेलवे में डिबू्रगढ़ के निकट बोगीबिल में ब्रह्मपुत्र नदी पर डबल लाइन के नए पुल की वेल-फाउंडेषन की डिजाइन की जांच।
नोट-रेलवे बोर्ड के पत्र सं. 2005/सीई-1/बीआर-प्प्/8 दि0 02.04.2009 के अनुपालन में आगे की प्रूफ चेकिंग कार्य को रोक दिया गया है।

प्प्प्द्ध परामर्ष एवं जांच
नीचे कुछ ऐसे मामले दिए गए हैं जिनमें रेलों को परामर्ष सेवा दी गई थी। कुछ मामलों में समस्या के कारण तक पहुंचने हेतु भी जांच की गई थी।
पुराने (डिस्टैªस्ड) बैकिंग सेतु का सुदृढ़ीकरण।
दक्षिण रेलवे के अर्सिकेरी-हसन सेक्षन तथ हसन-मैसूर गेज परिवर्तन परियोजना का लोड परीक्षण।
हज़रत निजामुद्दीन स्टेषन पर द्वितीय प्रवेष द्वार एवं सुद्ढ़ीकरण उपाय सुझाने के संबंध में फुट-ओवर-ब्रिज की डिजाइन।
उत्तर सीमांत रेलवे के लमडिंग-डिब्रूगढ़ सेक्षन पर पुल सं0 549 एवं 561 पर जीसी लोडिंग हेतु  45.7 मी के ओपेन वेब एमजी गर्डर की डिजाइन।
इरकाॅट हेत गाजियाबाद -श्री हिंद आदि पर लगे माइक्रोवेव टाॅवर पर अतिरिक्त एंटीने की माउंटिंग।
पूर्व रेलवे के ओबरा-सिंगरौली-गर्वा सेक्षन पर ब्रिज गर्डर को बदलने हेतु बियरिंगों की उपयुक्तता।
दक्षिण-मध्य रलवे के हास्पेट-बेल्लारी सेक्षन पर (1ग12.9 मी) कंपोजिट गर्डर पुल की उपयुक्तता की डिजाइन।
पष्चिम रेलवे में अतिरिक्त एंटीना की माउंटिंग हेतु वर्तमान माइक्रोवेव टावरों का विष्लेशण।
दक्षिण पूर्व रेलवे के नीरगुंडी-कटक सेक्षन पर विरूपा नदी पर दूसरे रेलवे पुल।
पष्चिम रेलवे में 30.5 मी. स्पैन के ओपेन वेब गर्डर के बाॅटम कार्ड में दरारें।
30.5 मी. स्पैन के ओपेन वेब गर्डर के बाॅटम कार्ड में दिखने वाली दरारों का एक मामला आरडीएसओ को भेजा गया था, जिसमें पष्चिम रेलवे को आवष्यक सुधारात्मक कार्रवाई करने की सलाह दी गई थी।
उत्तर सीमांत रेलवे की न्यू-जलपाईगुड़ी-सिलीगुड़ी-न्यू बोंगाई गांव ज. गेज परिवर्तन परियोजना पर 30.5 मी. एवं 45.7 मी. स्पैन की स्टील गर्डर पुलों की डिजाइन।
जीसी लोडिंग हेतु एम जी एम एल की 30.5 मी. एवं 45.7 मी. स्पैन की स्टील ओपेन वेब गर्डरों की डिजाइन की जांच की गई तथा उत्तर सीमांत रेलवे द्वारा किए जाने वाले सुदृढ़ीकरण उपायों का सुझाव दिया गया।
पूर्व रेलवे के हावड़ा-बेंडिल सेक्षन में जुबली पुल की पेंडुलम बियरिंग का प्रतिस्थापन।
दक्षिण-मध्य रेलवे के स्टील चैनल स्लीपरों में दरारों की समस्या।
दक्षिण-पूर्व रेलवे के खुर्दा रोड डिवीजन के पुल सं. 533 वे 557 में दरारों की समस्या।
दक्षिण पूर्व रेलवे के चंदिल जं0-कुंकी बी एच सेक्षन में अंडर स्लंग गर्डर पुल सं. 335 (अप एवं डाउन) के टाॅप फ्लेंज पर दरारें।
पूर्वोत्तर रेलवे के सोनपुर-हाजीपुर सेक्षन पर गंडक नदी पर पुल सं. 78 के स्ट्रिगरों में दरारों का विकास।
हावड़ा में डिस्ट्रेस बंकिम सेतु आरओबी की जांच।
आरडीएसओ द्वारा हावड़ा में बंकिम सेतु आरओबी के डिस्ट्रेस की जांच की गई तथा दोशों के विकास कारणों को षमिल करते हुए सुझाई गई भावी कार्रवाई पर एक रिपोर्ट तैयार करके रेलवे बोर्ड एवं पूर्व रेलवे को भेज दी गई थी।
पूर्व रेलवे के ओबरा-सिंगरौली सेक्षन पर पुल सं. 7 के 76.2 मी. स्पैन थ्रू-गर्डर का ढहना।
गर्डर गिरने के कारण की जांच, एक समिति जिसमें कार्यकारी निदेषक/पुल एवं संरचना/आरडीएसओ सीबीई/पूर्व रेलवे एवं वरि. प्रोफेसर/इरिसेन/पुणे षामिल थे, द्वारा की गई और रिपोर्ट रेलवे बोर्ड भेज दी गई।
पूर्व रेलवे की प्रस्तावित फुसरों-जरांधी डायवर्जन लाइन पर दामोदर नदी पर पुल सं. 4 का निरीक्षण।
उत्तर रेलवे के लुधियाना-अमृतसर सेक्षन पर पुल सं. 20 के 136 फीट स्पैन ओपन वेब गर्डर में आषोधन।
ऊधमपुर-कटरा नई लाइन के 154 मी0 स्पैन पुल सं. 20 की स्टील ट्राइंगुलेटेड गर्डर के डिजाइन मानदंड।
उत्तर रेलवे के अंबाला-लुधियाना सेक्षन के पुल सं. 325 का पुनर्निमाण।
पूर्व रेलवे की फुसरों-जरांधी डायवर्जन लाइन के नवनिर्मित पुल सं. 4 के  फीलपायों (वियर) एवं पाइल कैप की उप संरचना में विकसित विभिन्न दरारें।
पूर्वोत्तर रेलवे के हाजीपुर-बीसी डब्ल्यू सेक्षन पर पुल सं. 11 एवं बुढ़वल-बाराबंकी सेक्षन के पुल सं. 406 की उप संरचना एवं नींव।
उत्तर रेलवे के बालावाली-मुरादाबाद-सहारनपुर सेक्षन पर प्रयुक्त इलास्टोमेरिक बियरिंग।
वाडी-गुंटकल सेक्षन पर कृश्णा नदी पर प्रस्तावित पुल सं. 1249 की डिजाइन।


विषिश्टियां, संहिताएं एवं नियम पुस्तिकाएं
संहिताओं एवं नियम पुस्तिकाओं में संषोधन
कंक्रीट पुल संहिता में संषोधित कर लिया गया है। संषोधित संहिता में डिजाइन की लिमिट्स स्टेट विधि को षामिल कर लिया गया है।
पुल नियमों का हिंदी रूपांतरण जारी कर दिया गया है। पहले यह केवल अंग्रेजी में उपलब्ध था।
आर्क पुल संहिता का हिंदी रूपांतरण जारी कर दिया गया है। यह केवल अंग्रेजी में उपलब्ध था।
आई आर एस वेल्डेड पुल संहिता का संषोधनः- संषोधन कार्य पूर्ण कर लिया गया है तथा इस पर बीएसीसी की असाधारण बैठक में विचार विमर्ष किया गया था।
गर्डरों के फ्रेब्रीकेषन एवं उन्हें खड़ा करने हेतु आई आर एस विषिश्टियों में संषोधन (बी-1/79)ः गर्डरों के फेब्रीकेषन एवं उन्हें खड़ा करने की विषिश्टियों में भी संषोधन कर लिया गया है तथा इस पर बीएससी की असाधारण बैठक में विचार विमर्ष किया जा चुका है। समिति की सिफारिष रेलवे के अनुमोदन के अधीन है।
निरीक्षण
रेल कारखानों द्वारा फेब्रीकेटेड ओपेन वेब गर्डरों एवं रेल कारखानों एवं व्यवसाइयों द्वारा फेब्रीकेटेड वेल्डित गर्डरों का निरीक्षण आरडीएसओ द्वारा किया जाता है।
गत 10 वर्शों में ओपेन वेब एवं वेल्डित गर्डरों के वर्श वार किए गए निरीक्षण की स्थिति निम्न प्रकार हैः-

 

वर्ष

ओपन  वेब  गर्डर  (टी)

वेल्डित गर्डर (टी)

योग

1996&97

1338

806

2144

1997&98

2049

691

2740

1998&99

2346

690

3036

1999&2000

2555

1155

3710

2000&01

2650

750

4400

2001&02

2505

256

2761

2002&03

2321

284

2605

2003&04

4132

2905

7037

2004&05

2557

2356

4913

2005&06

4213

6521

10734

2006&07

6563

3400

9963

2007&08

4952

3811

8763

2008&09

11075

3931

15006



 



Source : आरडीएसओ में आपका स्वागत है CMS Team Last Reviewed on: 06-12-2012  

  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.